सांझ

दुल्हन के सुहाग का आगमन है ये सांझ, तो कभी किसी विधवा का उजड़ा आंगन है ये सांझ| पिता के...

Continue reading